हार्दिक पटेल को 2 साल की सजा। MLA के ऑफिस में की थी तोड़फोड़।





         गुजरात में पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को दंगा कराने के मामले में दोषी करार दिया गया है। पटेल समेत तीन और लोगों को भी मेहसाणा दंगा मामले में दोषी करार दिया गया है। उनके अलावा जिन दो और लोगों को दोषी करार दिया गया है उनमें लालजी पटेल का भी नाम शामिल है।

         वहीं इस मामले में 14 अन्य लोगों को बरी कर दिया गया है। आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई हिंसा की पहला घटना 23 जुलाई 2015 को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक ऋषिकेश पटेल के दफ्तर में हुई थी। इस दौरान जमकर तोड़फोड़ और आगजनी की गई थी।
        बता दें कि हार्दिक ने पाटीदारों के लिए आरक्षण की मांग की थी। इस दौरान मेहसाणा के विषनगर में दंगा हो गया था।

Popular posts from this blog

सोनम कपूर और आनंद आहूजा की सदी की बाद की रोमेंटिक पोस्ट हुई वायरल।

२० साल की फ्रांस की लड़की हुई जयपुर से गायब के किया पुलिस ने ??

जानिऍ कायो लगाया P.M मोदी को गले राहुल गाँधी ने। कया कहा P.M मोदी ने अपने भासन में.